किडनी ठीक करने के घरेलू उपाय

 

प्रत्येक व्यक्ति के शरीर में किडनी का जोड़ा होता है, जो मुख्य रूप से पेट के पीछे मौजूद होता है। ये गुर्दे रीढ़ की हड्डी के दोनों ओर स्थित होते हैं। किडनी का मुख्य कार्य रक्त को साफ करना और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालना है। हालांकि, जब किडनी इस कार्य को करने में असमर्थ होती है, तो उस स्थिति को किडनी की विफलता कहा जाता है।

 

 

किडनी खराब होने के मुख्य रूप से 2 प्रकार है।

 

 

एक्यूट किडनी– जब किसी व्यक्ति के गुर्दे में रक्त ठीक से नहीं बहता है, तो उस स्थिति को तीव्र गुर्दे कहा जाता है। तीव्र गुर्दे की बीमारी का उपचार केवल उन मामलों में संभव है जहां कम रक्त प्रवाह का पता लगाया जाता है।

 

क्रोनिक किडनी– गुर्दे की विफलता का एक अन्य प्रकार क्रोनिक किडनी है। क्रोनिक किडनी रोग तब होता है जब किसी व्यक्ति को चोट लगती है और जिसके कारण किडनी ठीक से काम नहीं कर पाती है।

 

 

किडनी की बीमारी के कारण

 

  • पानी कम पिएं
  • उच्च नमक का सेवन
  • पेशाब को रोकना
  • अधिक मीठा खाएं
  • कम सोएं
  • धूम्रपान और तंबाकू का सेवन

 

 

किडनी खराब होने के लक्षण

 

पेशाब का कम मात्रा में होना– यह गुर्दे की विफलता का मुख्य लक्षण है, जिसमें व्यक्ति की मूत्र मात्रा बहुत कम होती है। यह यूरिन इन्फेक्शन का लक्षण हो सकता है, लेकिन किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

 

 

पैरों और एड़ी की सूजन– कई बार देखा गया है कि कुछ लोगों के पैरों और एड़ी में सूजन होती है, लेकिन इसके बावजूद वे डॉक्टर को नहीं जानते हैं। किसी भी व्यक्ति को ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि यह गुर्दे की विफलता का लक्षण हो सकता है।

 

 

सांस की दिक्कत– अगर किसी व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी है, तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए क्योंकि इससे किडनी फेल हो सकती है।

 

 

सीने में दर्द– किडनी फेल होने का एक और लक्षण है सीने में दर्द

 

 

थकान महसूस करना– जब किडनी अपना काम ठीक से नहीं कर पाती हैं, तो इससे उनकी शारीरिक क्षमता प्रभावित होती है।

 

 

 

किडनी ठीक करने के उपाय।

 

 

नीम और पीपल

नीम और पीपल के पौधे किडनी की समस्याओं को ठीक कर सकते हैं। इसके लिए, इन पौधों की छाल का उपयोग किया जाता है। इसे उबालकर काढ़ा बनाकर रोगी को दें। इसे बनाने के लिए 10 ग्राम नीम और 10 ग्राम पीपल की छाल को तीन गिलास पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए तो इसे एक बोतल में डाल दें। इस काढ़े को 3-4 भागों में विभाजित करें और इसका सेवन करें। इस सप्ताह के भीतर, क्रिएटिनिन का स्तर संतुलित है।

 

 

गेहूं के जवार और गिलोय का रस

गेहूँ की घास को पृथ्वी का निर्वाह माना जाता है। इसका रस नियमित रूप से पीने से सबसे बड़ी बीमारी भी ठीक हो जाती है। यदि इसमें गिलोय का रस मिलाकर पिया जाए तो यह अमृत बन जाता है। इस काढ़े को बनाने के लिए 50 ग्राम गेहूं के ज्वारे और गिलोय के रस को मिलाकर एक मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण को रोजाना सुबह खाली पेट लेने से डायलिसिस की समस्या से राहत मिलती है।

 

 

गोखरू काँटा

बहुत कम लोगों ने इसके बारे में सुना है। यह किसी भी किराने की दुकान से आसानी से उपलब्ध है। इसके लिए 250 ग्राम गोखरू के कांटे को 4 लीटर पानी में उबालें। जब पानी 1 लीटर रह जाए तो इसे छानकर एक बोतल में रख लें। इस काढ़े को थोड़ा सा चाटें और सुबह 100 ग्राम पिएं। नियमित रूप से इसका सेवन करने से किडनी के रोगियों को बहुत फायदा होता है।

 

 

नींबू का रस और जैतुन का तेल

नींबू का रस और जैतून का तेल सुनने में आपको अजीब लग सकता है, लेकिन यह एक बहुत प्रभावी घरेलू नुस्खा साबित होगा। नींबू और जैतून के तेल को मिलाकर बनाई गई इस रेसिपी से आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। यदि आप सर्जरी के बिना गुर्दे की पथरी का इलाज करना चाहते हैं, तो आपको इस मिश्रण को रोजाना लेना होगा। इस पेय का फायदा यह होगा कि नींबू का रस पत्थर को काटने का काम करेगा और जैतून का तेल या जैतून का तेल इसे बाहर निकालने में मदद कर सकता है।

 

 

अनार

अनार में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। यही कारण है कि यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए काम करता है। इसके अलावा, अनार में कई अन्य पोषक तत्व होते हैं। यही कारण है कि अनार को सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। अनार का रस आपके शरीर को पानी की कमी से बचाने में मदद करता है और गुर्दे की पथरी में प्राकृतिक तरीके से राहत प्रदान करता है।

 

 

सेब का सिरका

इसका उपयोग कई भौतिक आवश्यकताओं के लिए किया जाता है। इसके अलावा यह किडनी की समस्याओं को लेकर भी काफी कारगर साबित होता है। इसमें मौजूद एंटी-बैक्टीरियल तत्व किडनी सहित शरीर को बैक्टीरिया के संक्रमण से बचाते हैं। एप्पल साइडर विनेगर के इस्तेमाल से किडनी में मौजूद स्टोन धीरे-धीरे खत्म हो जाते हैं। इसमें मूत्रवर्धक तत्व होते हैं जो गुर्दे से अपशिष्ट को निकालते हैं और गुर्दे को स्वस्थ रखते हैं।

 

 

पानी ज्यादा पीएं

किडनी की बीमारियों से बचने के लिए थोड़ी-थोड़ी देर बाद पानी पीते रहें। इससे किडनी में मौजूद अपशिष्ट पदार्थ यूरिन के जरिए बाहर निकल जाएंगे और आप किडनी की बीमारियों से बच जाएंगे। आप चाहें तो नींबू के रस को पानी में निचोड़कर भी पी सकते हैं, क्योंकि शरीर को विटामिन सी और पानी दोनों एक साथ मिलेंगे।

The post किडनी ठीक करने के घरेलू उपाय appeared first on Best Hindi Health Tips (हेल्थ टिप्स), Healthcare Blog – News | GoMedii.

Source link

admin

Netflix hindi : Review ,Rating , latest news or other related stuff of netflix.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: